, ,

16 Mukhi Nepali Rudraksha

Availability:

1 in stock


Approx Size: 28 mm

Approx Weight: 2.23 gm

120,000.00

1 in stock

Buy Now

सोलह मुखी रुद्राक्ष

सोलह मुखी रुद्राक्ष को भगवान विष्णु एवं भगवान शिव का रुप माना जाता है । सोलह मुखी रुद्राक्ष, सोलह कलाओं एवं सिद्धियों का प्रतीक है । इसे पहनने वाले को सोलह सिद्धियों का ज्ञान प्राप्त होता है । सोलह मुखी रुद्राक्ष विष्णु और शिव का संयुक्त रूप है और विजय प्राप्त होने का प्रतिनिधित्व करता है । यह रूद्राक्ष “केतु” द्वारा शासित माना गया है तथा केतु के बुरे प्रभावों से बचाता है । यह रूद्राक्ष की दुर्लभ किस्मों में से एक है । इस रूद्राक्ष को पहनने से व्यक्ति भगवान की भक्ति पाता है और सत्य को निभाते हुए अपने जीवन और सात जन्म के पुण्य लाभ पाता हैं ।

माना जाता है कि अर्जुन ने जब मछली की आँख को साधा था तब उन्होंने इसी रुद्राक्ष को धारण कर रखा था अत: इस रूद्राक्ष को पहनने के बाद व्यक्ति असाधारण क्षमता को पाता है और वह  शक्तिशाली व्यक्ति बन जाता है । यह रूद्राक्ष समस्त सुखों का भोग कराता है तथा सभी पापों से मुक्त करने में सहायक है । व्यक्ति को किसी प्रकार का भय नही सताता तथा जिस घर में सोलह मुखी रूद्राक्ष रखा हो वह घर चोरी, डकैती, या आग की समस्याओं से मुक्त होता है ।

सोलह  मुखी रुद्राक्ष के फायदे

हरी और हर का सम्लित रूप यह रुद्राक्ष व्यक्ति को जीवन के हर मार्ग में विजय कराता है । यह रुद्राक्ष  तपेदिक ,कुष्ट रोग से ग्रसित व्यक्तियों के लिए लाभदायक है । सोलह मुखी रुद्राक्ष को उपयोग में लाने से शरीर की सूजन, गले संबंधी रोगों से मुक्ति प्राप्त हो सकती है तथा तपेदिक, कुष्ठ रोग, फेफड़ों के रोगों जैसी बीमारियों से पीड़ित लोगों के लिए भी यह लाभदायक है । केतु के नकारात्मक ग्रह दोष इस रुद्राक्ष को धारण मात्र करने से ही दूर हो जाते हैं ।

16 Mukhi Rudraksha

Sixteen Mukhi Rudraksha is considered to be the form of Lord Vishnu and Lord Shiva and is among one of the rarest varieties of Rudraksha it is a symbol of sixteen arts and accomplishments. The wearer can get the knowledge of sixteen Siddhis. Sixteen Mukhi Rudraksha is the combined form of Vishnu and Shiva and represents victory. By wearing this Rudraksha, one attains devotion to the Lord and while fulfilling the truth, one gets the virtuous benefits of his life and seven births.

It is believed that Arjuna was wearing this Rudraksha when he had focused on the eye of the fish, so after wearing this Rudraksha, a person attains extraordinary abilities and he becomes a powerful person. This Rudraksha provides all the pleasures and helps in getting rid of all the sins. The person does not have any kind of fear and the house in which Sixteen Mukhi Rudraksha is kept is free from the problems of theft, dacoity, or fire.

Benefits of Sixteen Mukhi Rudraksha

Combination of Hari and Hara, this Rudraksha makes a person victorious in every path of life. By using Sixteen Mukhi Rudraksha, one gets freedom from inflammation of the body, throat related diseases and it is also beneficial for people suffering from diseases like tuberculosis, leprosy, lung diseases. The negative planetary defects of Ketu are removed only by wearing this Rudraksha.

Categories: , ,

Based on 0 reviews

0.0 overall
0
0
0
0
0

Be the first to review “16 Mukhi Nepali Rudraksha”

There are no reviews yet.