, , ,

11 Mukhi Nepali Garbh Gauri Rudraksha

Availability:

1 in stock


Approx Size: 23.60 mm

Approx Weight: 3.14 gm

11,000.00

1 in stock

Eleven Mukhi Garbh Gauri Rudraksha Nepali

Eleven Mukhi Rudraksha is considered to be a symbol of Rudra and Rudravatar Hanuman form and if this Rudraksha is in the form of Garbh-Gauri then it is considered highly auspicious and remover of all obstacles. This type of Rudraksha is rare and rarely found, due to which their importance is also high. Usually, Garbh-Gauri Rudraksha has two grains that are intertwined, in which the small size grain is considered as the form of Shri Ganesha and the big size grain is considered as the form of Mother Parvati. Garbh-Gauri Rudraksha is considered good for the unborn baby, it protects it from all negative elements.

For women who are having problems conceiving or are unable to conceive due to any negative karmic effect, then Rudraksha is helpful in this. Due to the combined form of Shri Ganesh and Mata Parvati and the blessings of Mahavira Hanuman, this Rudraksha is very auspicious and is the destroyer of all the sufferings of its holder and his salvation. By wearing this Rudraksha, the relationship between mother and son is strengthened and the distance between them ends.

Benefits of Eleven Mukhi Garbh Gauri Rudraksha

This Rudraksha reduces the problems during pregnancy, destroys fear and anxiety, and protects both the mother and the baby. It also can be used to enhance mutual love relationships.

This Rudraksha destroys fear, anxiety, and negative karmic effects on the mother and does not allow its effect on the unborn child. Its holder gets freedom from all the vices and negativity and all his work gets done without any hindrance.

ग्यारह मुखी गर्भ गौरी रुद्राक्ष नेपाली

ग्यारह मुखी रुद्राक्ष को रूद्र स्वरुप और रुद्रावतार हनुमान का प्रतीक माना जाता है और यदि यह रुद्राक्ष गर्भ-गौरी के रूप में हो तो अत्यधिक शुभ एवं समस्त बाधाओं को दूर करने वाला माना जाता है । इस प्रकार के रुद्राक्ष दुर्लभ है और बहोत ही कम पाए जाते हैं जिस कारन इनकी महत्ता भी अधिक होती है । प्रायः गर्भ-गौरी रुद्राक्ष में दो दाने होते हैं जो आपस में जुड़े होते हैं इसमें लघु आकर के दाने को श्री गणेश का स्वरुप और बड़े आकर के दाने को माता पारवती का स्वरुप माना जाता है । गर्भ-गौरी रुद्राक्ष गर्भ में पल रहे शिशु के लिए अच्छा माना जाता है यह उसकी रक्षा करता है समस्त नकारात्मक तत्वों से ।

जिन स्त्रियों को गर्भ धारण करने में समस्या हो रही है या किसी नकारात्मक कार्मिक प्रभाव के कारन वे गर्भ धारण नहीं कर पा रहीं तो यह रुद्राक्ष इसमें सहायक है । श्री गणेश और माता पारवती का सम्मिलित स्वरुप और महावीर हनुमान की कृपा इसपर होने के कारन यह रुद्राक्ष अत्यधिक मंगलकारी है और अपने धारक के समस्त कष्टों को हरने वाला एवं उसका उद्धार करने वाला है । इस रुद्राक्ष को धारण करने से माँ और बेटे के सम्बन्ध मजबूत होते हैं और उनमे आईं दूरियां ख़तम हो जाती हैं ।

ग्यारह मुखी गर्भ गौरी रुद्राक्ष के फायदे

यह रूद्राक्ष गर्भ काल के समय होने वाली समस्यों को कम करता है ,भय और चिंता का नाश करता है और माता और शिशु दोनों की रक्षा करता है । यह रुद्राक्ष आपसी प्रेम को बढ़ाता है और रिश्तों में पड़ी दरारों को भरता और उन्हें मजबूत करता है । यह रुद्राक्ष माता पर भय ,चिंता और नकारात्मक कार्मिक प्रभावों को नष्ट करता है और गर्भ में पल रहे शिशु पर इसका प्रभाव नहीं होने देता । इसके धारक को सभी विकारों एवं नकारात्मकता से मुक्ति मिलती है और उसके समस्त कार्य बिना किसी रुकावट के हो जाते हैं ।

Based on 0 reviews

0.0 overall
0
0
0
0
0

Be the first to review “11 Mukhi Nepali Garbh Gauri Rudraksha”

There are no reviews yet.